App Developer क्या होता है इसका काम, योग्यता, सैलेरीऔर एक पेशेवर एप डेवलपर बनने की हिंदी में जानकारी

मोबाइल से भरी इस दुनिया में इंटरनेट जिसका साथी है, उसकी मदद से मनचाहे Apps को चुटकियों में आप डाउनलोड कर पाते हैं. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है, आखिर इन एप्स को बनाता कौन है?

अगर हां तो बहुत अच्छी बात है इन एप्स को बनाने वाले व्यक्ति को App Developer कहते हैं. लेकिन,  एक एप डेवलपर होता कौन है, और कैसे बनाते है मोबाइल एप्स है?

अगर आप इस विषय पर विस्तार से जानकारी हासिल कर इस क्षेत्र में अपने ज्ञान को बढ़ाना चाहते हैं तो यह लेख आपके लिए ही है. गेमिंग से लेकर एजुकेशन तक हर कैटेगरी का ऐप एंड्राइड यूजर्स के लिए प्ले स्टोर पर तथा iPhone यूजर्स के लिए एप स्टोर पर उपलब्ध है.

एप डेवलपर कैसे बने?

और मार्केट में भी आए दिन नए-नए एप्स की जानकारी होना बेहद जरूरी है, तो आइए जानते हैं.

App Developer कौन है?

एक ऐप डेवलपर को Computer Software Engineer भी कहा जाता है. जो कंप्यूटर्स तथा मोबाइल डिवाइसेस में एप्स को बनाने, टेस्ट करने तथा प्रोग्राम करने का कार्य करता हैं.

संक्षेप में कहें तो एक एप डेवलपर का कार्य एप्स को डेवलप करना होता है, एप डेवलपर्स आमतौर पर किसी संस्था के लिए टीम के साथ कार्य करते हैं. या फिर यह ग्राहकों की आवश्यकता के मुताबिक एप डेवलप करते हैं.

एक एप डेवलपर को आवश्यक प्रोग्रामिंग भाषाओं का ज्ञान होता है जिसका इस्तेमाल कर वे एक ऐप को डेवलप कर पाता हैं.

Types of Application – एप्लिकेशन के विभिन्न प्रकार

एक एप डेवलपर किसी  के या फिर सभी OS के एप्स को बनाने में सक्षम हो सकता है. आइए जानते हैं कार्यक्षमता के आधार पर एप्लीकेशन को कितने भागों में बांटा गया है.

#1 Native Mobile Apps

ऐसे मोबाइल एप्स जिन्हें किसी एक विशेष प्लेटफार्म के लिए बनाया जाता है, उन्हें नेटिव मोबाइल एप्लीकेशंस कहा जाता है. जैसे; कोई ऐप जो सिर्फ Android या iPhone में ही चलाई जा सके उन्हें नेटिव मोबाइल एप्स कहा जाता है.

ऐसे एप्स यूजर्स के अनुभव को ऑप्टिमाइज करते हैं, क्योंकि इन्हें किसी खास प्लेटफार्म के लिए ही बनाया गया होता है.

#2 Hybrid Mobile Apps

ऐसी एप्लिकेशंस को डेवलप करने के लिए HTML5 प्रोग्रामिंग भाषा का इस्तेमाल किया जाता है. इन एप्स को भी नेटिव एप्स की तरह अपने मोबाइल में इंस्टॉल किया जाता है. ऐसी Application यूजर्स को फोटोस क्लिक करने, भौतिक गतिविधियों को ट्रैक करने तथा नोटिफिकेशन पाने में मदद करती है.

टि्वटर, इंस्टाग्राम, फेसबुक इत्यादि सभी हाइब्रिड मोबाइल एप्स के उदाहरण है.

#3 Web Apps

ऐसी एप्लिकेशंस जो वेब सर्वर पर रन होती हैं उन्हें Web Apps कहा जाता है. इंटरनेट के कार्य करने में इन वेब एप्स का बड़ा योगदान है.

ऑनलाइन फॉर्म्स, वर्ड प्रोसेसर तथा यहां तक कि फेसबुक यह सभी वेब एप्लीकेशंस हैं जिन्हें इंटरनेट के जरिए ब्राउज़र्स के माध्यम से एक्सेस किया जा सकता है.

Web Apps को किसी भी Device से एक्सेस किया जा सकता है. उदाहरण के लिए आप Gmail एप को ब्राउज़र से Android, iPhone, Windows किसी भी डिवाइस में एक्सेस कर सकते हैं.

एप डेवलपर क्या काम करता है?

एक एप डेवलपर का कार्य विभिन्न ऑपरेटिंग सिस्टम मसलन, एंड्रॉइड, विंडोज किसी भी एक या अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए एप्स को डेवलप करना होता है.आपके स्मार्टफोन में मौजूद सभी एप्स को एक एप डेवलपर द्वारा ही विकसित किया गया है.

आमतौर पर प्रत्येक एप डेवलपर किसी एक क्षेत्र में दक्ष होता है, वहीं कुछ ऐसे डेवलपर भी होते हैं जो कई सारी कैटेगरीज के एप्स को डेवलप करने में सक्षम होते है.

क्लाइंट (ग्राहक) की आवश्यकता के मुताबिक एक एप डेवलपर एप्स को विकसित करता है. कई सारी मार्केटिंग फर्म जो एप डेवलपमेंट की सुविधाएं प्रदान करती हैं

वे पहले यूजर की आवश्यकताओं को समझती है फिर उसी के आधार पर उसी केटेगरी के ऐप को बनाने का काम एप डेवलपर को सौंप देती हैं.

एक एप डेवलपर उस ऐप को पब्लिक की आवश्यकता के मुताबिक डेवलप करता है. सभी चीजों को ध्यान में रखते हुए इस ऐप को इस तरह बनाया जाता है कि उसे विभिन्न प्रकार के डिवाइस में इस्तेमाल किया जा सके चाहिए वह सेल फोन, टेबलेट या विंडोज हो.

एक बार एप बनाने की प्रक्रिया पूर्ण हो जाती है तो फिर उस ऐप को प्रोडक्शन में भेज दिया जाता है. और फिर उस एप डेवलपर का कार्य उस ऐप को अपग्रेड करने हेतु Patches तैयार करना होता है. जिससे कि वह एप मार्केट में लांच किया जा सके.

एक एप डेवलपर किसी कंपनी या संस्था में नौकरी करके अपनी सेवाएं दे सकता है. या फिर वह सेल्फ एंप्लॉयड के तौर पर बतौर फ्रीलांसर भी काम करके अपनी सेवाएं देकर पैसा कमा सकता है.

हालांकि, App Development सीखने के बाद एक फ्रेशर को यह सलाह दी जाती है कि वह कुछ माह के लिए किसी संस्था अथवा कंपनी में जुड़कर ग्राहकों तथा ब्रांड्स के साथ काम कर अपने कार्य अनुभव में विस्तार करें ताकि एक अच्छे पैकेज के साथ वह किसी अन्य फर्म में काम कर सके.

Types of App Developer – एप डेवलपर के प्रकार

तो अब यह समझने के बाद की एक एप डेवलपर कौन होता है? अगर आपके अंदर भी है एप डेवलपर  बनने की इच्छा शक्ति तो आइए पहले यह जान लेते हैं एप डेवलपर कितने प्रकार के होते हैं. जिन्हें जानने के बाद आप यह निर्णय ले पाएंगे कि मुझे किस प्रकार का ऐप डेवलपर बनना है.

#1 Mobile App Developer

बदलते समय के साथ मोबाइल, टैबलेट जैसे डिवाइस इंसान की जिंदगी का अहम हिस्सा बन चुके हैं. दुनिया में सबसे अधिक इस्तेमाल किए जाने वाले मोबाइल Android, iOS पर कार्यरत हैं. इसलिए, छोटी स्क्रीन के ऑपरेटिंग सिस्टम के इन डिवाइसो को डेवलप करने वाले व्यक्ति को मोबाइल एप डेवलपर कहा जाता है.

स्मार्टफोन यूजर होने के नाते आपको अक्सर रोजाना मोबाइल में नए एप्स दिखाई देते हैं. इन एप्स को डेवलप करने के लिए मोबाइल एप डेवलपर C, C++, Python, Java जैसी प्रोग्रामिंग भाषाओं का इस्तेमाल कर एप्स को डेवलप करते हैं.

 प्रत्येक मोबाइल डिवाइस अलग-अलग प्रोग्रामिंग भाषाओं का इस्तेमाल करता है. इसलिए, एप डेवलपर्स इस बात को भलीभांति समझते हुए इस प्रकार ऐप डेवलप करते हैं. ताकि उसे सभी मोबाइल्स में चलाया जा सके.

बात की जाए मोबाइल एप डेवलपर की करियर की तो एक शानदार अपॉर्चुनिटी कही जा सकती है. जो इस दिशा में अपना करियर देख रहे हैं. क्योंकि, स्मार्टफोन के बढ़ते उपयोग तथा उस में बढ़ती एप्लीकेशंस पर निर्भरता की वजह से इस दिशा में अच्छे पैसे और करियर को देखा जा सकता है.

#2 Android Developer

इस समय पूरी दुनिया में एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम पर सबसे ज्यादा मोबाइल चलते हैं. इस ऑपरेटिंग सिस्टम का स्वामित्व वर्तमान में गूगल के पास है.

बड़ी बड़ी मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग कंपनियां जैसे; सैमसंग, सोनी, MI इत्यादि के मोबाइल फोन  Android OS पर ही संचालित किए जाते हैं.

एक Android Developer का काम एंड्रॉइड डिवाइसों जैसे; मोबाइल, टैबलेट, टीवी आदि के लिए किसी भी कैटेगरी के Android Application को डेवलप करना होता है. एंड्रॉइड एप को बनाने के लिए जिस कोड का इस्तेमाल किया जाता है उन्हें ओपन सोर्स कहा जाता है.

अर्थात इनका इस्तेमाल कोई भी कर सकता है. इसलिए, थोड़ी सी कठिन प्रैक्टिस और सूझबूझ के साथ कोई भी यूजर एक एंड्रॉइड एप डेवलप कर सकता है

बदलते समय के साथ एंड्रॉइड यूजर्स की संख्या काफी ज्यादा है तो एंड्राइड ऐप्स की मांग भी मार्केट में ज्यादा है एसलिए एंड्रॉइड एप डेवलपमेंट का अच्छा करियर कहा जा सकता हैं.

#3 iOS Developers

एप्पल के स्मार्टफोन जिन्हें आईफोन का जाता है वे सभी iOS पर काम करते हैं. जिनके द्वारा आईफोन के लिए एप्स को डेवलप किया जाता है उन्हें iOS Developer कहा जाता है.

एक आईओएस डेवलपर बनना आसान नहीं होता. क्योंकि, आईफोन के लिए एक ऐप डेवलप करने के लिए Swift (iOS,Mac के लिए ऐप बनाने के लिए महत्वपूर्ण प्रोग्रामिंग भाषा) या Objective  C, C दोनों या फिर दोनों में से किसी एक भाषाओं का अच्छा ज्ञान होना चाहिए.

पेशेवर iOS Developer यह भली-भांति जानते हैं कि किस तरह एक ऐप डेवलप किया जाता है. उसे स्ट्रक्चर दिया जाता है तथा किस प्रकार उसकी टेस्टिंग और डीबगिंग की जाती है.

बाजार में एक Skilled आईओएस डेवलपर की मांग है. हालाकिं एक iOS Developer बनना बिल्कुल आसान नहीं परंतु जिनका इस कार्य में जुनून होता है और एक पेशेवर डेवलपर बन कर काम करते हैं उनके लिए अच्छे अवसर इस क्षेत्र में मौजूद है.

तो इस प्रकार मोबाइल ऐप्स के इन तीनों प्रकारों के बारे में आपने जाना.

एप डेवलपर बनने के लिए आवश्यक योग्यता?

  • एक एप डेवलपर बनने के लिए आपके अंदर आवश्यक स्किल्स होनी चाहिए. ताकि आप क्लाइंट की आवश्यकता के अनुसार एक बेहतरीन ऐप तैयार कर सके.
  • विभिन्न प्रकार के ऐप्स डेवलप करने या फिर एप्स में आने वाली प्रॉब्लम्स को सॉल्व करने के लिए एप डेवलपर्स के पास क्रिएटिविटी होना अत्यंत आवश्यक है.
  • एप्लीकेशंस का बारीकी से ज्ञान होना चाहिए एप्लीकेशन का कौन सा भाग किस काम आता है यह ज्ञान होना चाहिए.
  • एक एप डेवलपर होने के नाते अगर आप अपनी सेवाएं सीधे कस्टमर्स तक पहुंचाते हैं तो आपको अच्छी कस्टमर सर्विस का ज्ञान भी होना चाहिए. ताकि उनके सवाल जवाब तथा उनकी समस्याओं को आप फिक्स कर सके.
  • टीम वर्क की क्षमता होनी चाहिए विशेषकर बड़े-बड़े एप्लीकेशंस को डेवलप करने के लिए बड़े प्रोजेक्ट पर काम करते हुए टीमवर्क स्किल होना अत्यंत जरूरी है.
  • अच्छी प्रोग्रामिंग भाषा तथा तकनीकि ज्ञान एक एप डेवलपर को होना चाहिए क्योंकि इस क्षेत्र में टेक्निकल स्किल्स काफी मायने रखती हैं.
  • बतौर एप डेवलपर आपके पास अच्छी कम्युनिकेशन स्किल्स का भी होना आवश्यक है. ताकि आप अपने विचारों को अपनी टीम के साथ, क्लाइंट के साथ शेयर कर एक बेहतरीन ऐप विकसित कर सके.

एप डेवलपर कैसे बने?

बतौर ऐप डेवलपर आप अपनी सेवाएं देना चाहते हैं तो आपको निम्न बातों पर गौर करना चाहिए.

  • एक पेशेवर एप डेवलपर बनने के लिए 12वीं में कंप्यूटर साइंस से पास होना जरूरी है.
  • आपके पास कंप्यूटर का मूलभूत ज्ञान होना आवश्यक है, क्योंकि Application को डेवलप करने का कार्य कम्प्यूटर के माध्यम से होता है.
  • कोडिंग के ज्ञान हेतु 12वीं के बाद आप B.Tech in Computer Science , BCA ( Bachelor of Computer Application ) जैसे किसी कोर्स को कर सकते हैं.
  • आपको Android App Development हेतु प्रोग्रामिंग भाषाओं का ज्ञान पाने के लिए कड़ा अभ्यास करने की आवश्यकता है. क्योंकि एक अच्छे एप डेवलपर  के पास कोडिंग की बारीकी से जानकारी होनी चाहिए तभी एक अच्छा डेवलपर बना जा सकता है.

एप डेवलपर बनने के लिए प्रोग्रामिंग भाषाएं

एक डेवलपर बनने हेतु प्रोग्रामिंग भाषाएं अत्यंत मायने रखती हैं. लेकिन, प्रोग्रामिंग भाषाओं की आवश्यकता इस बात पर निर्भर करती है कि किस प्लेटफार्म (Android iOS) या किस उद्देश्य के लिए ऐप को बनाया जा रहा है.

Mac OS, iOS Apps को बनाने के लिए वर्तमान में एक नई प्रोग्रामिंग भाषा Swift का इस्तेमाल हो रहा है. हालांकि, आज भी इस ऑपरेटिंग सिस्टम की अनेक एप्लीकेशन पुरानी प्रोग्रामिंग भाषा Objective-C के तहत बनाई जा रही है.

अगर आप एक iOS एप डेवलपर बनना चाहते हैं तो इन दोनों प्रोग्रामिंग भाषाओं पर आपकी अच्छी पकड़ होनी चाहिए.

वहीं अगर आप एक Android App Developer बनना चाहते हैं तो यहां आपको जावा प्रोग्रामिंग भाषा का ज्ञान होना चाहिए. क्योंकि एंड्रॉइड एप के अधिकतर भागों को जावा में लिखा जाता है.

 बता दें एंड्रॉइड एप डेवलप करने के लिए आपको कोई खास प्रोग्रामिंग नॉलेज की भी आवश्यकता नहीं पड़ती. क्योंकि, गूगल का खुद का बनाया गया एक एप डेवलपमेंट सॉफ्टवेयर Android Studio उपलब्ध कराता है. जिसकी मदद से कई सारे ऐप डेवलपर बनाते है.

अगर आप भविष्य में Android App Developer बनना चाहते हैं तो आप Android Studio सीखने का प्रयास आज से ही कर सकते हैं.

App Development में करियर?

आईटी इंडस्ट्री बड़ी तेजी के साथ ग्रो कर रही है ऐसे में इस क्षेत्र में अपना अच्छा करियर देख सकते है. आज मोबाइल में यूजर्स कि निर्भरता एप्लिकेशंस पर लगातार बढ़ती जा रही है.

Entertainment, Education से लेकर Online Business तक हर क्षेत्र में एप्स की मांग तेजी से बढ़ रही है. तो एक एप डेवलपर के लिए इस दिशा में अच्छा करियर पैसा और नाम छिपा हुआ है.

अतः संक्षेप में कहें तो अगर आप आज एप डेवलपर बनने की तैयारी करते हैं तो भविष्य में आप इस दिशा में अपना सुनहरा भविष्य देख सकते हैं.

आपने क्या सीखा?

इस लेख में आपने एप डेवलपर के बारे में पूरी जानकारी ली है. आपने जाना कि एक एप डेवलपर क्या होता है, एप डेवलपर कैसे बन सकते हैं?

साथ ही एप डेवलपर बनने के लिए आवश्यक योग्यताएं, प्रोग्रामिंग भाषाएं तथा एप डेवलपिंग में करियर संभावनाओं के बारे में विस्तार से जाना है.

हमें उम्मीद है यह लेख आपको पसंद आएगा और आपके लिए उपयोगी साबित होगा.

Leave a Comment